गणेश जी का जन्म

गणेश जी का जन्म भाद्रपद मास चतुर्थी के दिन दूसरे पहर मैं हुआ था।

Ganesh Chaturthi 2023

गणेश चतुर्थी पूजा के फायदे

गणेश जी के पूजा करने से ज्ञान,बुद्धिमता, विशेष योग्यताएं और सिद्धिया प्राप्त होती है।

गणेश जी का स्थापना मंत्र

अस्य प्राण प्रतिषठन्तु अस्य प्राणा: क्षरंतु च। अस्यै देवत्वमर्चार्यै मामहेति च कश्चन ऊं सिद्धि-बुद्धि सहिताय श्री महागणाधिपतयें नम:। सुप्रतिष्ठो वरदो भव।।

गणपति पूजा मंत्र

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥

गणेश चतुर्थी पूजा सामग्री

गणेश पूजा मैं गणेश मूर्ति,चौकी, लाल या पिला कपड़ा, कलश, गंगाजल,कुमकुम, हल्दी, मोली, अक्षत, सुपारी, लॉन्ग, इलायची, पान, धुर्वा, पंचामृत, आम के पत्ते, सिंदूर, लाल फूल, जेनव, नारियल, घी, कपूर, चंदन, मोदक, सुपारी, पंचमेवा,धूप।

गणेश चतुर्थी सुभ महूर्त

गणेश चतुर्थी सुभ महूर्त 19 सितम्बर 2023 की सुबह 11 बजकर 7 मिनट से दोपहर 1 बजकर 34 मिनट तक होगा।

गणेश उत्सव का समापन

गणेश उत्सव का समापन अनंत चतुर्दर्शी के दिन होता है। इस वर्ष समापन 28 सितम्बर 2023 गुरुवार को होगा।